Bharat Kesari Breaking News with Latest Updates and Detailed Information
Bharat Kesari is online News portal of India. Special Coverage of India's Parliament Election 2014 
क्या कांग्रेस खो देगी राजस्थान में अपना अस्तित्व ?
आपके अनुसार इस लेख को पहली बार वोट दें 0 comments 1639Visits Bharat Kesari
राजस्थान में होने वाले 25 लोकसभा सीटों के फैसले पर यदि विभिन्न जिलों के प्रमुख चौराहे गजटों की माने तो इन चुनावों के परिणाम के दौरान कांग्रेस को अपना अस्तित्व बचाना भी भरी पड़ सकता है प्रदेश में विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की बुरी हार और चारों तरफ मोदी की लहर ने इस वक्त कांग्रेस नेताओं के माथे पर चिंता की लकीरे खींच दी है ऐसे में प्रदेश में कांग्रेस की मुख्य सीट माने वाले अजमेर, अलवर, जयपुर ग्रामीण से भी जनता ने इस बार कांग्रेस प्रत्याशियों के सपने को साकार करने में मदद करने हाथ पीछे खेच लिए अजमेर से कांग्रेस प्रत्याशी एवं कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलेट भी जनता के दिलों में अपनी जगह बनाने से नाकाम ही नजर आ रहे थे यहाँ तक मतदान वाले दिन वे स्वयं अपने वोट बैंक को एकर असमंजस की स्तिथि में दिखाई दिए वही राजस्थान की इस लोकसभा सीट को लेकर चर्चाओं का आलम देश के प्रमुख राजनितिक केंद्र दिल्ली तक जा पहुंचा है ऐसे में सवाल कांग्रेस की शान से लेकर सचिन के मान तक का है वही यदि बात करे राजस्थान के पूर्वी सिंह द्वार कहे जाने अलवर जिले की तो वह भी स्तिथि कोई खास मजबूत नहीं दिखाई दे रही है हालाँकि यहाँ मतदान 24 अप्रेल को होने जाना है पंरतु मतदान से पूर्व है कांग्रेस प्रत्याशी भंवर जितेंद्र सिंह के प्रति जनता का रुख कुछ टेड़ा दिखाई दे रहा है जिसके होप सर्कस गजट ने तो प्रतिद्वंदी प्रत्याशी को विजयी तक मान लिया है जिनका कहना है की जितेंद्र सिंह का जनता के प्रति राजशाही रुख व क्षेत्र में अनुपस्तिथि हार का प्रमुख कारण हो सकते है वही देश में मोदी की लहर भी एक बड़ा कारण इस बार कांग्रेस की प्रदेश में प्रमुख सीटों में हार का एक कारण बन सकती है . ऐसा ही कुछ हाल है प्रदेश की एक और सीट जयपुर ग्रामीण की जहाँ जनता का फैसला मतपेटियों में बंद हो चुका है . जिसके बाद हालात कांग्रेस प्रत्याशी एवं कद्दावर नेता सी पी जोशी का इस बार भी लोकसभा में बैठना आसान नजर नही आ रहा . युवाओं की पसंद राजयवर्धन सिंह राठोर एवं बीजेपी प्रत्याशी क्षेत्र में लोकर्पिय नहीं होने के बाबजूद भी कुछ ही समय में जनता के बीच पार्टी के पूर्ण समसर्थन एवं सहयोग के चलते जगह बनाने में काम्यद् हुए वही कोंग्रेसी प्रत्याशी पार्टी की अंदरुनी कलह से ही झूझते हुए नजर ए जिसका खामियाजा कही न कही जनता उन्हें इस बार चुनावों में भुगतवा सकती है
| More

Your Comments

0 comments

Discussions

 
Press Ctrl+G To Change Between Hindi and English
Your Name :  
Email Address :  
Your Comment :  

Breaking News