Manoj Kumar Real Journalism with Traditional Values
Our Vision is Real and Indepth Latest Updates with Breaking News with Citizens of India 
भरतपुर में राजनेतिक समीकरण गड़बड़ाए
आपके अनुसार इस लेख को पहली बार वोट दें 0 comments 59900Visits Manoj Kumar

Bhadur Singh Koli

राजस्थान की राजनीती में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले भरतपुर जिले में राजनेतिक समीकरण इन दिनों गड़बड़ाए हुए है | लोकसभा चुनावों के लिए प्रत्याशियों के चयन दौरान ही राजनेतिक पार्टियों को लोहे के चने चबाने के लिए मजबूर होना पड़ा है वही अब जीत के समीकरण बैठाने के लिए हर प्रत्याशी अपने अपने पैतरे फैकता हुआ भरतपुर की राजनीति में उथल पुथल मचाये हुए हैं |

राजस्थान में अप्रत्याशित जीत हासिल कर सरकार संचालित करने वाली भारतीय जनता पार्टी ने भरतपुर लोकसभा क्षेत्र से बहादुर सिंह कोली को मैदान में उतारा है | वहीँ कांग्रेस से टिकट कि चाहत रखने वाले गोपाल पहाड़िया को आम आदमी पार्टी ने आप के टिकट से नवाजते हुए प्रत्याशी बनाया है | दूसरी ओर भरतपुर टिकट को लेकर असमंजस में फँसी कांग्रेस ने आखिर कार एक नए चेहरे के रूप में डॉक्टर सुरेश यादव को टिकट देकर मैदान में उतार दिया है | माना जा रहा है कि भरतपुर के विश्वेन्द्र सिंह के कहने पर डॉक्टर सुरेश यादव को प्रत्याशी बनाया गया है | डॉक्टर सुरेश यादव भरतपुर में ही डॉक्टर का पेशा अपनाये हुए हैं और अब जनता के बीच राजनेता की छवि के रूप में दिखाई दे रहे हैं | हांलांकि डॉक्टर सुरेश यादव को जनप्रतिनिधि नहीं सिर्फ मरीज़ों का इलाज़ करने वाला व्यवसायिक चिकित्सक ही माना जा रहा है | आम जनता के प्रति उनके रवैये से भी भरतपुर के लोग खुश नहीं देखे जाते रहे हैं | कांग्रेस के इस निर्णय के बाद कांग्रेस में अब फूट पड़ती दिखाई देने लगी है और कोंग्रेसी नेता ही कोंग्रेसी प्रत्याशी का विरोध करते दिखाई दे रहे हैं | स्थानीय नेताओं ने कांग्रेस के इस निर्णय का विरोध दर्ज कराया है | अब देखना यह है कि बिना किसी अनुभव के आम जनता से रुष्ट रहने वाले डॉक्टर सुरेश यादव क्या अपनों को ही मानाने में सफल होते हैं या भरतपुर की आम जनता कैसे अपना पाला पलटते हुए सुरेश यादव का सपोर्ट करती है | कांग्रेस के लिए एक ओर भरतपुर लोकसभा जहाँ हार की जगह बन चुकी है वही अब जनता के बीच छवि के आभाव वाले प्रत्याशी को उतारने से समस्या और अधिक बढ़ चुकी है | कोंग्रेसियों ने ना सिर्फ कांग्रेस के दामन से दूरियां बना ली हैं बल्कि कोंग्रेसी नेता की छवि वाले गोपाल पहाड़िया का दामन भी थाम लिया है | गोपाल पहाड़िया को ना तो विधान सभा में न ही लोकसभा में कांग्रेस ने प्रत्याशी घोषित नहीं किया | इससे वे नाराज होकर आप के बेनर तले भरतपुर से चुनावी समर में अपना भाग्य आजमा रहे हैं |

भरतपुर में भाजपा के बहादुर सिंह कोली जहाँ भाजपा के कुनबे के साथ जगह जगह सभाओं को अंजाम दे रहे हैं वहीँ गोपाल पहाड़िया हो या सुरेश यादव अभी तक अपना चुनाव प्रचार भी शुरू नहीं कर पाये हैं | भरतपुर लोकसभा को लेकर जहाँ मुख्यमत्री वसुंधरा राजे अभी तक आश्वस्त हैं वहीँ अब मुख्या डर है आम आदमी पार्टी का | आप के प्रत्याशी जहाँ पहले से ही चर्चित प्रत्याशी हैं वही देश की कुछ जनता आज कल अपने आप को आम आदमी बताते हुए आप के समर्थन में है | यदि आप प्रत्याशी आम आदमी को साथ लेकर चलते हैं तो वे निश्चित ही भरतपुर के परिणाम बदलने में सक्षम होंगे |

आम आदमी पार्टी की बढ़ती हुई लोकप्रियता से यह निश्चित ही है कि आप पार्टी से आगामी चुनाव परिणामों में भाजपा को भारी नुक्सान पहुँचने की सम्भावना है | आप ना केवल आम जनता के वोटों पर प्रभाव डाल सकती है बल्की कांग्रेस तथा अन्य पार्टियों के परंपरागत वोट बैंक पर भी असर छोड़ सकती है | अब देखना यह है कि भारत की जनता पार्टियों के भुलावे में आकर वोट देती है या अपने विवेक से अपनी सरकार का निर्माण करती है
| More

Your Comments

0 comments

Discussions

 
Press Ctrl+G To Change Between Hindi and English
Your Name :  
Email Address :  
Your Comment :  

Breaking News